शिक्षा का अर्थ, परिभाषा, विशेषता और प्रकार

शिक्षा का अर्थ परिभाषा और विशेषता (Meaning and definition of Education) शिक्षा शब्द संस्कृत के शिक्ष् धातु में प्रत्यय लगने से बना हैं। जिसका अर्थ होता हैं- सीखना या सिखाना। जो भी कार्य व्यक्ति को नवीन अनुभव एवं नवीन ज्ञान प्रदान करता हैं वह शिक्षा हैं। शिक्षा को केवल विद्यालय में ही प्राप्त नही किया जा सकता अपितु शिक्षा हर एक वो इंसान जो हमें नवीन ज्ञान से परिचित कराता हैं

वह भी शिक्षा के क्षेत्र के अंतर्गत आता हैं। वर्तमान समाज की मांग गुणवत्तापूर्ण शिक्षा हैं।

शिक्षा का अर्थ, परिभाषा,विशेषता और प्रकार (Meaning and definition of Education)

यह भी जानें – वैश्वीकरण (Globalization) क्या हैं?

शिक्षा को अंग्रेजी भाषा में EDUCATION कहा जाता हैं। education शब्द लैटिन भाषा के education शब्द से मिलकर बना हैं और educatum शब्द भी लैटिन भाषा के दो शब्दों से मिलकर बना हैं – E और Duco. यहाँ E का अर्थ हैं – अंदर से और Duco का अर्थ हैं – बाहर निकालना।

● समावेशी शिक्षा

शिक्षा का अर्थ (Meaning and Definition of education in hindi)

इसके अर्थ से हम यह अच्छी तरह समझ सकते हैं कि शिक्षा मनुष्य की आंतरिक शक्तियों को विकसित करने का कार्य करती हैं। शिक्षा मनुष्य की अभिक्षमता को विकसित कर उसके कौशलों को बाहर निकालने का कार्य करती हैं।

शिक्षा जीवनपर्यंत चलने वाली प्रक्रिया हैं। शिक्षा समाज को शिक्षित करने के साथ साथ सत्ता के संचालन करने में भी सहायक होती हैं। यह समाज के विकास हेतु भावी नागरिकों का निर्माण करती हैं। शिक्षा के द्वारा छात्रों का सांस्कृतिक, आर्थिक, राजनीतिक एवं सामाजिक विकास किया जाता हैं।

शिक्षा की परिभाषा में विचारित तथ्य (Definitions of Education)

“स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मस्तिष्क का निर्माण करने का कार्य शिक्षा करती हैं।”

अरस्तू

“असल शिक्षा वह है जो मनुष्य के अंदर से उत्पन्न होती हैं। यह व्यक्ति की आंतरिक शक्तियों की अभिव्यक्ति हैं।”

रूसो

“शिक्षा मनुष्य की सभी क्षमताओं का विकास है जिनसे वह अपने पर्यावरण पर नियंत्रण रख सके और अपनी संभावनाएं पूरी कर सकें।”

जॉन डीवी

“व्यक्ति के आंतरिक पहलू की अभिव्यक्ति शिक्षा हैं।”

स्वामी विवेकानंद

शिक्षा की विशेषता के कारण

शिक्षा एक विकासशील प्रक्रिया हैं। इसको ग्रहण करने से व्यक्ति का सभी क्षेत्रों में विकास होता हैं। शिक्षा जीवनपर्यंत चलने वाली प्रक्रिया का नाम हैं। यह मनुष्य के जम्म से उसकी मृत्यु तक निरंतर चलते रहती हैं क्योंकि मनुष्य अपनी किसी भी उम्र में कुछ न कुछ सीखते रहता हैं।

शिक्षा एक उद्देश्यपूर्ण प्रक्रिया का नाम हैं। शिक्षा के कई उद्देश्य होते हैं। बालकों को शिक्षा प्रदान करने का उद्देश्य सिर्फ उनका ज्ञानात्मक विकास करना नहीं अपितु उनका सर्वांगीण विकास करना होता हैं।

शिक्षा त्रिधुर्वीय प्रक्रिया का नाम हैं क्योंकि इसमें अध्यापक, छात्र और पाठ्यक्रम का अनूठा संगम होता हैं। शिक्षण-अधिगम प्रक्रिया का संचालन इन्हीं के बीच होता हैं। शिक्षा गतिशील प्रक्रिया का नाम हैं।

शिक्षा छात्रों को राह दिखाने का कार्य करती हैं और साथ ही यह छात्रों को समाज के साथ समायोजन करने में भी उनकी सहायता करती हैं। शिक्षा छात्रों को समस्या-समाधान करने में उनकी सहायता करती हैं। शिक्षा के द्वारा समाज को सभ्य समाज में परिवर्तित किया जाता हैं और साथ ही यह सामाजिक परिवर्तन को सही दिशा प्रदान करने का भी कार्य करती हैं।

शिक्षा के प्रकार या शिक्षा की संस्थाएं

● औपचारिक शिक्षा – औपचारिक शिक्षा वह शिक्षा हैं जो छात्रों को विद्यालय में प्रदान की जाती हैं। यह शिक्षा प्राप्त कर छात्र वास्तविक अनुभव की प्राप्ति करते हैं और उनमें समस्या-समाधान के कौशल का विकास होता हैं। शिक्षा के अर्थ और परिभाषा meaning and definition of education का निर्माण शिक्षा के प्रकार द्वारा निर्धारित होता हैं।

● अनौपचारिक शिक्षा – अनौपचारिक शिक्षा छात्रों को विद्यालय से नही अपितु समाज से प्राप्त होती हैं। यह शिक्षा छात्र अपनी इच्छा से ग्रहण करते हैं। इस प्रकार की शिक्षा कही भी, कभी भी प्राप्त की जा सकती हैं।

औपचारिक और अनौपचारिक शिक्षा में अंतर difference between formal and informal education

● निरोपचारिक शिक्षा – निरोपचारिक शिक्षा दोनों प्रकार की शिक्षाओं का मिश्रित रूप हैं क्योंकि इसमें औपचारिक और अनौपचारिक शिक्षा के गुणों का समावेश होता हैं।

निरोपचारिक शिक्षा non formal education

निष्कर्ष

शिक्षा मनुष्य को सभ्य बनाने का कार्य करती हैं, शिक्षा प्राप्त कर मनुष्य समाज के साथ समायोजन कर अनुशासन के साथ जीवनयापन करता हैं। शिक्षा मनुष्य को आदर्शवादी बनाती हैं और उसमें नैतिक-मूल्यों का विकास करती हैं। शिक्षा प्राप्त कर व्यक्ति अपनी जन्मजात शक्तियों एवं योग्यताओं से परिचित होता हैं। शिक्षा के द्वारा ही एक समाज अपना विकास करता हैं और अपनी एक अलग पहचान बनाता हैं। दोस्तों शिक्षा का अर्थ, परिभाषा और प्रकार (Meaning and definition of education in hindi) के सम्बंध में ज्ञान प्राप्त कर आज अपने शिक्षा के महत्व को समझा। यह लेख आपके लिए फायदेमंद रहा हो तो इसे शेयर करना न भूलें !!

संबंधित लेख- दुरस्थ शिक्षा

Previous articleभारतीय संविधान का इतिहास-History of Indian Constitution in Hindi
Next articleशैक्षिक वैश्वीकरण क्या हैं-What is Educational Globalization in Hindi
नमस्कार दोस्तों मेरा नाम पंकज पालीवाल है, और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ. मैंने एम.ए. राजनीति विज्ञान से किया हुआ है, एवं साथ मे बी.एड. भी किया है. अर्थात मुझे S.St. (Social Studies) से जुड़े तथ्यों का काफी ज्ञान है, और इस ज्ञान को पोस्ट के माध्य्म से आप लोगों के साथ साझा करना मुझे बहुत पसंद है. अगर आप S.St. से जुड़े प्रकरणों में रूचि रखते हैं, तो हमसे जुड़ने के लिए आप हमें सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते हैं।

2 COMMENTS

  1. Sayad aap ko menu baar k colour pe thora modify karna hoga, background colour black hai aur aur text ka bhi colour black hai.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here