सामाजिक अध्ययन (Social Studies) क्या है? अर्थ, परिभाषा एवं उपयोगिता

Social Studies (S.ST) क्या है? शब्द का हिन्दी रूपांतरण है – सामाजिक अध्ययन, जिसका अर्थ है समाज का अध्ययन करना। समाज में घटित होने वाली समस्त घटनाओं का अध्ययन के अंतर्गत किया जाता है। इसके अंतर्गत विभिन्न विषयों का अध्ययन किया जाता है, जो समाज की समस्त क्रियाकलापो से सम्भनदित होती है। यह पोस्ट बी.एड ,एम.ए एवं समस्त एक्साम में आपके लिए लाभदायक है पर यह तभी सम्भव है जब आप इसे पूरा पढे।

सामाजिक अध्ययन क्या है (Social Studies Meaning in Hindi)

Social studies (s.st) kya hai hindi

सामान्यतः Social Studies का अर्थ होता है, समाज का अध्ययन करना अब यह समाज क्या है? “दो या दो से अधिक विभिन्नता वाले समूहों के संगठीत स्वरूप को समाज कहते है”

अतः समाज के उन सभी व्यक्तियों के मध्य के संबंध उनके विचार, संस्कृति, खान-पान, रहन-सहन, विचारधारा का अध्ययन इसके अंतर्गत किया जाता है। इसके अंतर्गत भूगोल, राजनीति-शास्त्र, इतिहास, अर्थशास्त्र, गृहविज्ञान आदि का अध्ययन किया जाता है। Social Studies का क्षेत्र बहुत व्यापक है। इस वजह से भी इसकी उपयोगिता बहुत बढ़ जाती हैं।

सामाजिक अध्ययन व्यक्तित्व वे समाज से संबंधित होने के कारण एक सामाजिक विषय हैं। सामाजिक अध्ययन में समाज से संबंधित समस्त विषयों, क्रियाओ , मनुष्य के भौतिक एवं सामाजिक तथा विश्व का सम्पूर्ण मानव जाति का अध्ययन किया जाता हैं।

सामाजिक अध्ययन की परिभाषा (Definition of Social Studies in Hindi)

1) माईकेलिस महोदय के अनुसार,”सामाजिक अध्ययन सामाजिक एवं भौतिक वातावरण से संबंधित क्रियाओ का अध्ययन हैं।”

2) यू०एस०परिषद ,”सामाजिक अध्ययन मानव समाज के संगठन तथा विकास से संबंधित हैं।”

3) वेस्ले के अनुसार, “सामाजिक अध्ययन पद उन विद्यालय विषयों की ओर संकेत करता है तो मानवीय संबंध की विवेचना करता है।”

4) राष्ट्रीय शिक्षा आयोग (1916),”वे (अध्ययन) जिनकी विषय -वस्तु,संगठन एवं मानव समाज के विकास तथा सामाजिक समूहों के सदस्य के रूप में मनुष्य से प्रत्यक्ष रूप से संबंधित हैं।”

यह भी जानें सामाजिक विज्ञान (Social Science) क्या हैं?

5) शिक्षा शब्दकोश के अनुसार,”सामाजिक अध्ययन,सामाजिक विज्ञान की विषय-वस्तु के वे अंश विशेषकर इतिहास, अर्थशास्त्र, नागरिकशास्त्र, समाजशास्त्र ओर भूगोल है,जो प्रारंभिक और माध्यमिक विद्यालयों में अध्ययन के लिए उपयुक्त माने जाते है।”

सामाजिक अध्ययन की विशेषता (Features of sst)

  • इसके अंतर्गत राजनीति ,भूगोल, इतिहास, अर्थशास्त्र, गृहविज्ञान आदि का अध्ययन किया जाता हैं।
  • इसके अंतर्गत सामाजिक समस्याओं का अध्ययन किया जाता हैं।
  • इसके अंतर्गत समाज मे उत्पन्न आवश्यकताओं के अध्ययन किया जाता हैं।
  • सामाजिक आवश्यकताओं को सामाजिक-विषय के पाठ्यक्रम मे सम्मलित करने की योजना बनाई जाती हैं।
  • इससे छात्रों का सामाजिक पक्ष मजबूत होता है।
  • सामाजिक अध्ययन का केंद्र बिंदु स्वयं “मानव” होता हैं।
  • यह मानव जीवन का अध्ययन करता है एवं उसके समस्त पहलुओ का भी अध्ययन करता है।
  • सामाजिक अध्ययन का अध्ययन क्षेत्र बहुत व्यापक हैं।

सामाजिक अध्ययन की उपयोगिता

  • इसके अध्ययन से समाज में हो रहे परिवर्तन को उचित दिशा प्रदान की जाती है।
  • समाज की प्रकर्ति को समझने के लिए सहायक।
  • समाज मे व्याप्त समस्त विचारधाराओ के मध्य तुलना करने के लिए।
  • समाज की समस्याओं का पता लगाने के लिए।
  • समाज की समस्याओं के समाधान के लिए।
  • पूर्व को वर्तमान एव वर्तमान को भविष्य के साथ जोड़ने के लिये।
  • समाज के साथ समायोजन करने के लिए सहायक।
  • राष्ट्रीय नीति के निर्माण में सहायक।

शिक्षा में सामाजिक विज्ञान

  • इसके द्वारा छात्रो को उनके मानवाधिकारों का ज्ञान करवाया जाता है।
  • इसके द्वारा छात्रों में सहयोग की भावना, सामाजिकता की भावना, एकता की भावना का विकास होता हैं।
  • यह छात्रों को समाज के अनुसार व्यवहार करने की कला सिखाता हैं।
  • इससे छात्रों का मानसिक विकास में वृद्धि होती है।
  • इसके द्वारा छात्र अन्य विषयों के साथ संबंद स्थापित कर पाते है।
  • इसके अध्ययन से छात्र अपनी विरासत में हुए समस्त क्रियाओ के बारे मे अध्ययन कर पाते है ।
  • इतिहास के पक्षो को अनुभव कर छात्र भविष्य का अनुमान लगाने में सफल हो पाते हैं।
  • इससे छात्रों का भावात्मक विकास होता है।

सामाजिक अध्ययन की प्रक्रति

  • मानव निर्मित संस्थाओं एवं संगठनों का अध्ययन करना।
  • अतीत में हुई घटनाओ का अध्ययन करना।
  • अंतरराष्ट्रीय संबंधों का अध्ययन करना।
  • देश के लिए भावी नागरिक तैयार करने का उत्तरदायित्व।
  • समाज में व्याप्त संबंधों का अध्ययन करना।
  • प्राकर्तिक विज्ञान एवं विकास का अध्ययन।
  • सामाजिक परिवर्तनों के कारणों का अध्ययन।
  • इसमे वैश्विक समस्याओ के समाधानों का भी अध्ययन व्यापक रूप से किया जाता हैं।

दोस्तों आपको इस पोस्ट Social Studies (S.ST) क्या है? से काफी कुछ जानने को मिला होगा और यह जानकारी आपको भविष्य में काफी लाभ पहुँचाएगी। इसी तरह मेरी सभी पोस्ट को पड़ने एवं उससे लाभ प्राप्त करने के लिए लगातार अपने लाभ से जुड़े प्रकरण को पढ़ते रहे।

सम्बंधित लेख – माध्यमिक शिक्षा आयोग क्या है

Next articleमाध्यमिक शिक्षा आयोग (मुदालियर आयोग) 1952-53
नमस्कार दोस्तों मेरा नाम पंकज पालीवाल है, और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ. मैंने एम.ए. राजनीति विज्ञान से किया हुआ है, एवं साथ मे बी.एड. भी किया है. अर्थात मुझे S.St. (Social Studies) से जुड़े तथ्यों का काफी ज्ञान है, और इस ज्ञान को पोस्ट के माध्य्म से आप लोगों के साथ साझा करना मुझे बहुत पसंद है. अगर आप S.St. से जुड़े प्रकरणों में रूचि रखते हैं, तो हमसे जुड़ने के लिए आप हमें सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here