सूक्ष्म शिक्षण Micro Teaching क्या हैं? अर्थ, परिभाषा एवं उपयोगिता

सूक्ष्म शिक्षण Micro Teaching क्या हैं? यह शिक्षण प्रक्रिया का संकुचित रूप होता हैं। Micro Teaching मे छात्रों की संख्या एवं समय की अधिकता को कम कर दिया जाता हैं। इसका निर्माण छात्रों में शिक्षक कौशल को विकसित करने के लिए गया गया था। जब छात्राध्यापक शिक्षण के दौरान शिक्षण कार्य करते हैं तो उस समय उनके सामने छात्रों की उपस्थिति को सीमित कर 5 या 6 कर दिया जाता हैं।

तत्पश्चात छात्रअध्यापकों अपना शिक्षण आरम्भ करते हैं। सामान्यतः सूक्ष्म शिक्षण Micro Teaching का अर्थ होता हैं कम समय का शिक्षण। जिसमें छात्रअध्यापकों में एक-एक करके शिक्षण कौशल का ज्ञान करवाया जाता हैं।

सूक्ष्म शिक्षण क्या है? ( Micro Teaching Meaning in Hindi)

Micro Teaching क्या हैं?

सूक्ष्म शिक्षण को शिक्षण के संकुचित रूप में देखा वे समझा जाता हैं। सूक्ष्म शिक्षण में छात्रध्यापकों में शिक्षण के कौशल का एक साथ उपयोग न करके उनको एक एक छोटा प्लेन बनाने को कहा जाता हैं एवं एक समय में सिर्फ एक कौशल करवाया जाता है। सूक्ष्म शिक्षण Micro Teaching का विकास अमेरिका के स्टेनफोर्ड विश्वविद्यालय में (1961) को हुआ था।

सूक्ष्म शिक्षण Micro Teaching में छात्राध्यापकों से पाठ योजना का निर्माण करवाया जाता हैं। वह शिक्षण करते हैं फिर अध्यापकों एवं छात्रों से प्रतिपुष्टि (Feedback) देने को कहा जाता हैं यह प्रक्रिया दुबारा दोहराई जाती हैं जिसे सूक्ष्म शिक्षण चक्र (Cycle of Micro Teaching) कहा जाता हैं। विभिन्न कौशल इस प्रकार हैं- श्यामपट्ट कौशल,पुनर्बलन कौशल,प्रस्तावना कौशल,व्याख्यान कौशल,उद्दीपन परिवर्तन कौशल।

सूक्ष्म शिक्षण की परिभाषा (Defination of Micro Teaching in Hindi)

1) एलेन महोदय के अनुसार – ” सूक्ष्म शिक्षण समस्त शिक्षण को लघु क्रियाओं में बाटना हैं।”

2) शिक्षा विश्वकोश के अनुसार – ” सूक्ष्म शिक्षण (Micro Teaching) वास्तविक निर्मित तथा अध्यापन अभ्यास का न्यूनीकृत अनुमाप है जो शिक्षक-प्रशिक्षण, पाठ्यक्रम विकास व अनुसंधान में प्रयुक्त किया जाता हैं।”

3) पीक व टकर महोदय के अनुसार – ” सूक्ष्म शिक्षण विडियो टेप फीडबैक के प्रयोग से प्रमुख कौशलों के विकास को संकुचित रूप से जानने के लिए प्रयोगात्मक विधि की एक प्रणाली हैं।”

4) बी० के० पासी महोदय के अनुसार – ” सूक्ष्म शिक्षण (Micro Teaching) एक प्रशिक्षण तकनीक है जो छात्र-अध्यापकों से यह अपेक्षा रखती हैं कि वे किसी तथ्य को थोड़े से छात्रों को कम समय में किसी विशिष्ट शिक्षण कौशल के माध्यम से शिक्षण दें।”

5) बी० एम०शोर महोदय के अनुसार – ” सूक्ष्म शिक्षण कम अवधि, कम छात्रों तथा कम शिक्षण क्रियाओं वाली प्रविधि हैं।”

सूक्ष्म शिक्षण की विशेषता (Characteristics of Micro Teaching)

  • 1- यह कम समय में अधिक गुणवत्ता प्रदान करने की प्रविधि हैं।
  • 2- सूक्ष्म शिक्षण (Micro Teaching) एक व्यक्तिगत शिक्षण हैं।
  • 3- सूक्ष्म शिक्षण में एक समय में एक ही कौशल का विकास करने का लक्ष्य रखा जाता हैं।
  • 4- सूक्ष्म शिक्षण के अंतर्गत छात्रों की संख्या में कटौती करके 5-6 तक रखी जाती हैं।
  • 5- सूक्ष्म शिक्षण में समय की अवधि को कम करके 5 से 10 मिनट तक रखा जाता हैं।
  • 6- इसके अंतर्गत उचित एवं तत्काल प्रतिपुष्टि(Feedback) की व्यवस्था की जाती हैं।

सूक्ष्म शिक्षण की उपयोगिता (Utility of Micro Teaching)

  • 1- सूक्ष्म शिक्षण के द्वारा छात्राध्यापकों में आसानी से कौशलों का विकास किया जाता हैं।
  • 2- सूक्ष्म शिक्षण के द्वारा प्रशिक्षण की गुणवत्ता में वृद्धि होती हैं।
  • 3- इस प्रकार से छात्रध्यापक कम समय में अधिक सिख पाते हैं।
  • 4- सूक्ष्म शिक्षण के द्वारा उत्तम शिक्षक का निर्माण किया जाता हैं।
  • 5- इसके द्वारा छात्रों का वस्तुनिष्ट मुल्यांकन किया जाना संभव हैं।

सूक्ष्म शिक्षण में सावधानियां (Precautions in Micro Teaching)

  • 1- छात्राध्यापकों को शिक्षण शुरू करने से पूर्व पाठ योजना का निर्माण कर लेना चाहिए।
  • 2- एक समय में एक ही शिक्षण कौशल का विकास करना चाहिए।
  • 3- जब छात्राध्यापक शिक्षण कर रहे हो तो उनको उचित प्रतिपुष्टि(Feedback) और प्रसंशा करनी चाहिए जिससे उनके आत्मविश्वास में वृद्धि हो।
  • 4- इसके द्वारा पाठ्यवस्तु को क्रमबद्ध तरीके के साथ व्यवस्थित करना चाहिए।
  • 5- सूक्ष्म शिक्षण में छात्राध्यापकों को उचित सुझाव ही देने चाहिए अन्यथा उनके मनोबल में कमी आ सकती हैं।

दोस्तों आपको इस पोस्ट सूक्ष्म शिक्षण Micro Teaching क्या है? से काफी कुछ जानने को मिला होगा और यह जानकारी आपको भविष्य में काफी लाभ पहुँचाएगी। इसी तरह मेरी सभी पोस्ट को पड़ने एवं उससे लाभ प्राप्त करने के लिए लगातार हमारी वेब साइड sstmaster.com पर अपने लाभ से जुड़े प्रकरण को पढ़ते रहे।

संबंधित लेख – S.St. का Lesson Plan कैसे बनायें

Previous articleSocial Science lesson plane in hindi
Next articleपाठ्यक्रम का अर्थ और परिभाषा
नमस्कार दोस्तों मेरा नाम पंकज पालीवाल है, और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ. मैंने एम.ए. राजनीति विज्ञान से किया हुआ है, एवं साथ मे बी.एड. भी किया है. अर्थात मुझे S.St. (Social Studies) से जुड़े तथ्यों का काफी ज्ञान है, और इस ज्ञान को पोस्ट के माध्य्म से आप लोगों के साथ साझा करना मुझे बहुत पसंद है. अगर आप S.St. से जुड़े प्रकरणों में रूचि रखते हैं, तो हमसे जुड़ने के लिए आप हमें सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते हैं।

11 COMMENTS

    • आप gmail के माध्यम से या सोशल प्लेटफार्म के माध्यम से हमसे संपर्क कर सकते हैं।

      • Sir please I want to upload data/details regarding any topics.

        Please if required then contact me through under mentioned Gmail please.
        Regards

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here