व्यावसायिक शिक्षा क्या हैं – What is Vocational Education in hindi

व्यावसायिक शिक्षा Vocational Education आधुनिक युग की नई मांग हैं। व्यावसायिक शिक्षा के महत्व को ध्यान में रखते हुए इसे राष्ट्रीय पाठ्यक्रम संरचना 2005 (NCF 2005) में भी सम्मिलित किया गया हैं। वर्तमान में उसी शिक्षा को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का स्थान दिया जाता हैं जो छात्रों को जीविकोपार्जन करने योग्य बनाए। शिक्षा के क्षेत्र में व्यावसायिक शिक्षा को जोड़ने का प्रथम प्रयास कोठारी आयोग 1964 ने किया। इस आयोग ने सरकार को माध्यमिक शिक्षा के व्यवसायिकरण का सुझाव दिया।

व्यावसायिक शिक्षा क्या हैं व्यवसायिकरण के उद्देश्य और विशेषता एवं शिक्षा में इसकी आवश्यकता के संबंध में हम विस्तृत जानकारी प्राप्त कारिंगे तो चलिए जानते हैं कि व्यावसायिक शिक्षा क्या हैं What is Vocational Education

व्यावसायिक शिक्षा Vocational Education

व्यावसायिक शिक्षा Vocational Education क्या हैं ?

सामान्यतः शिक्षा को व्यवसाय के साथ जोड़ना ही व्यवसायिक शिक्षा कहलाती हैं परन्तु वास्तव में इसका अर्थ इससे अधिक व्यापक हैं। व्यावसायिक शिक्षा छात्रों को व्यवसाय चुनने एवं व्यवसाय संबंधित योग्यता प्राप्त कराने का अवसर प्रदान करती हैं। व्यावसायिक शिक्षा की शुरुआत राष्ट्रीय शिक्षा आयोग 1964-66 के सुझावों द्वारा हुई। जिस आधार पर राष्ट्रीय शिक्षा नीति 1986 ने अपनी मंजूरी प्रदान की और यह शिक्षा का एक माध्यम बन गयी। इसके आधार पर राष्ट्रीय शिक्षा नीति 1986 ने 1995 तक +2 कक्षा के 25% छात्रों को व्यावसायिक शिक्षा से जोड़ने का लक्ष्य निर्धारित किया। व्यावसायिक शिक्षा का विस्तार करने हेतु इसे दूरस्थ शिक्षा में भी सम्मिलित किया गया।

व्यावसायिक शिक्षा क्या हैं? What is vocational education भारत देश मे छात्रों की व्यावसायिक शिक्षा प्रदान करने के लिए एक परिषद के निर्माण की बात कही गयी जो व्यावसायिक शिक्षा के क्रियान्वयन एवं नीति निर्माण की योजना बनाएं। इसी बात को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार द्वारा संयुक्त व्यावसायिक शिक्षा परिषद (JCVE) की स्थापना की गयी। यह परिषद व्यावसायिक पाठ्यक्रम के निर्माण हेतु नीति का निर्माण करती हैं और उसके क्रियान्वयन हेतु विद्यालयों को मंजूरी प्रदान करती हैं।

व्यावसायिक शिक्षा की विशेषता Vocational education features –

1. यह छात्रों को समाज से जोड़ने और सामाजिक कार्यों में योगदान देने हेतु तैयार करती हैं।

2. यह छात्रों को जीविकोपार्जन बनाने हेतु उनमें व्यावसायिक कौशल की प्रवृत्ति का विकास करती हैं।

3. इसके द्वारा छात्रों को विद्यालयों में क्रियाशील रखा जाता हैं और इससे उनका शारीरिक विकास तीव्र गति से होता हैं।

4. इससे वह अपने सामाजिक एवं पारिवारिक उत्तरदायित्वों से परिचित हो जाते हैं।

5. व्यावसायिक शिक्षा द्वारा शिक्षा के वास्तविक उद्देश्यो को मूर्त रूप प्रदान किया जाता हैं।

व्यावसायिक शिक्षा के उद्देश्य और लक्ष्य Aims

● छात्रों को व्यवसायपरख बनाना जिससे वह समाज में सम्मानपूर्वक रहने योग्य बन सकें।
● छात्रों में जीविकोपार्जन करने की दक्षता का विकास करना जिससे वह अपने पारिवारिक उत्तरदायित्वों का भली-भांति निर्वहन कर सकें।
● राष्ट्र का विकास करना और सामाजिक परिवर्तनों को सही दिशा प्रदान करना।
● राष्ट्रीय आर्थिक संरचना को मजबूती प्रदान करना और प्रति व्यक्ति आय में वृद्धि करना।
● शिक्षा के विस्तार को बढ़ावा देना।

शिक्षा में व्यावसायिक शिक्षा की आवश्यकता और महत्व

किसी देश के विकास में उस देश की शैक्षिक व्यवस्था का बहुत अत्यधिक महत्व होता हैं और अगर उस शिक्षा का मुख्य उद्देश्य छात्रों को व्यवसाय दिलाना और उनको जीविकोपार्जन योग्य बनाना हो तो उस देश का विकास निश्चित होता हैं। शिक्षा अपने वास्तविक उद्देश्यों और लक्ष्यों की प्राप्ति तभी कर सकती हैं जब वह शिक्षा व्यावसायिक शिक्षा हो। वर्तमान में शिक्षा की घटती गुणवत्ता को ध्यान में रखते हुए जरूरी हैं कि शिक्षा को पुर्णतः व्यावसायिक शिक्षा में परिवर्तित किया जाए।

व्यावसायिक शिक्षा छात्रों को व्यवसाय चुनने में ही सहायक नही है अपितु इसके द्वारा छात्रों का सर्वांगीण विकास भी किया जाता हैं। आधुनिक युग में बढ़ती जनसंख्या को ध्यान में रखते हुए यह आवश्यक हैं कि शिक्षा को छात्रों के अनुरूप बनाया जाए जिससे वह अपने वास्तिविक उद्देश्यो की प्राप्ति कर सकें।

दोस्तों, आज हमने जाना कि व्यावसायिक शिक्षा क्या हैं What is Vocational Education , और इसकी विशेषता और इसके लक्ष्य क्या हैं। हम उम्मीद करते है कि आपको आपके सभी प्रश्नों के उत्तर मिल चुके हैं। हमारी यह पोस्ट आपके लिए लाभदायक सिद्ध हुई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी अवश्य शेयर करें और किसी प्रकरण में अगर आपको जानकारी चाहिए हो तो हमें कमेंट करके बताए।।

संबंधित पोस्ट – शैक्षिक वैश्वीकरण educational globalization क्या हैं?

Previous articleशैक्षिक वैश्वीकरण क्या हैं-What is Educational Globalization in Hindi
Next articleप्रस्तावना कौशल
नमस्कार दोस्तों मेरा नाम पंकज पालीवाल है, और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ. मैंने एम.ए. राजनीति विज्ञान से किया हुआ है, एवं साथ मे बी.एड. भी किया है. अर्थात मुझे S.St. (Social Studies) से जुड़े तथ्यों का काफी ज्ञान है, और इस ज्ञान को पोस्ट के माध्य्म से आप लोगों के साथ साझा करना मुझे बहुत पसंद है. अगर आप S.St. से जुड़े प्रकरणों में रूचि रखते हैं, तो हमसे जुड़ने के लिए आप हमें सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते हैं।

18 COMMENTS

    • अवनीश पहले आप बताए कि आप कौन से क्षेत्र में व्यावसायिक शिक्षा की बात कर रहे हैं क्योंकि व्यासायिक शिक्षा कई प्रकार की होती हैं और आपको अध्यापक बनने के लिए अध्यापक बनने की योग्यता प्राप्त करनी ही होगी। जैसे-बी.एड या D.el.ed. और ये सब व्यावसायिक शिक्षा के ही भाग हैं।

  1. शिक्षा के व्यवसायिक आचार नीति के बारे मे कुछ बताइए

    • आपके द्वारा पूछे गए प्रश्न का उत्तर हमारी इस पोस्ट में ही हैं। कृपया ध्यानपूर्वक पढ़े। व्यावसायिक शिक्षा के अर्थ को समझने से आप सभी प्रश्नो के उत्तर प्राप्त कर सकते हैं।

  2. सर क्या आपका जो सब टॉपिक है उसका pdf कही पे उपलब्ध है या नहीं

    • अंकिता आप Social Media के माध्यम से हमसे संपर्क करें। हम आपकी प्रत्येक समस्या का समाधान करने का प्रयास करिंगे।

  3. आपका कंटेंट काफी मददगार साबित हो रहा है,, विद्यार्थियों के लिये ये एक रामबाण साबित हो रहा है।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here