इंदिरा गाँधी राष्टीय मुक्त विश्वविद्यालय – IGNOU in Hindi

इंदिरा गाँधी राष्टीय मुक्त विश्वविद्यालय (IGNOU) की स्थापना भारत सरकार द्वारा 1985 में की गई। भारत में व्याप्त शैक्षिक समस्याओं को देखते हुए इंदिरा गाँधी मुक्त विश्वविद्यालय का निर्माण किया गया। इसका मुख्यालय दिल्ली (केंद्रशासित प्रदेश) में स्थापित किया गया हैं। इसका उद्देश्य ऐसे छात्रों को शिक्षित करना था जिनका किसी वजह से शिक्षण कार्य छुट गया हो या ऐसे छात्र जो पढ़ना चाहते हो पर उत्त्पन्न परिस्थितियों की वजह से उन्हें पढ़ाई से वंचित रहना पड़ा हों।

इंदिरा गाँधी राष्टीय मुक्त विश्वविद्यालय (IGNOU) समय समय पर ऐसे इच्छुक छात्रों के लिए प्रवेश प्रक्रिया एवं उनकी परीक्षाएं निर्धारित करते रहता है और इन प्रक्रियाओं को वह अपनी वेबसाइड www.ignou.ac.in के माध्यम से छात्रों तक पहुचाता हैं। जिससे इसके उद्देश्यों की प्राप्ति हो सकें।

यह भी देखें – भारतीय शिक्षा प्रणाली

इंदिरा गाँधी राष्टीय मुक्त विश्वविद्यालय (IGNOU) के उद्देश्य

इंदिरा गाँधी राष्टीय मुक्त विश्वविद्यालय (IGNOU in hindi)
  • पढाई से वंचित रह रहे छात्रों एवं युवाओं को शिक्षा प्रदान करना।
  • दूरस्थ शिक्षा की व्यवस्था करना।
  • शिक्षा प्रदान करने के लिए घर तक पत्राचार भेजने की व्यवस्था करना।
  • आवश्यकता अनुसार खुले विश्वविद्यालयों की स्थापना करना।
  • छात्रों को व्यावसायिक शिक्षा प्रदान कर जीविकोपार्जन हेतु तैयार करना।
  • राष्टय को शिक्षित करना एवं भविष्य की प्रगति में योगदान देना।
  • छात्रों के लिए उच्च शिक्षा की व्यवस्था करना।

इग्नू का उद्देश्य सामान्यतः छात्रों के लिए दुरस्थ शिक्षा की व्यवस्था करना हैं। इसके माध्यम से इग्नू दूर बैठे छात्रों को घर-घर तक पत्राचार एवं डिजिटल माध्यम (रेडियो, दूरदर्शन आदि) से शिक्षा प्रदान करने की व्यवस्था करता हैं। इंदिरा गाँधी राष्टीय मुक्त विश्वविद्यालय के माध्यम से दूर-दूर तक शिक्षा पहुचाने की व्यवस्था की जाती हैं। ऐसे बहुत से लोग होते हैं जिनके सामने ऐसी परिस्थितियां उत्पन्न हो जाती हैं कि उन्हें शिक्षा का साथ बीच में ही छोड़ना पड़ता हैं। ऐसे छात्र जब समय बीत जाने के बाद दुबारा शिक्षा ग्रहण करने की सोचते हैं एवं उच्च शिक्षा प्राप्त करने का प्रयास करते हैं तो इग्नू ऐसे छात्रों को शिक्षित कर उन्हें व्यावसायिक कौशल प्रदान करने का कार्य करता हैं।

इग्नू के कार्य

  • इग्नू ऑनलाइन माध्यम से शैक्षिक कार्यक्रमों की व्यवस्था करता हैं। इग्नू साथ ही दुरस्थ शिक्षा में डिप्लोमा भी प्रदान करने का कार्य करता हैं। इग्नू अध्यापकों के प्रशिक्षण से संबंधित कार्यक्रमों का भी आयोजन करवाता हैं।
  • इसके द्वारा समय-समय पर सेमिनार भी करवाये जाते हैं। जिससे इग्नू के कार्यक्रमों का प्रचार-प्रसार हो सकें। इग्नू स्नातक, उच्च शिक्षा, तकनीकी शिक्षा हेतु छात्रों के लिए पाठ्यक्रम का निर्माण भी करवाता हैं।
  • इग्नू शिक्षा का संचालन अपने विद्यालयों एवं ऑनलाइन (रेडियो,दूरदर्शन आदि) माध्यमों से करता हैं। इग्नू अपने 5 मिलियन छात्रों को शिक्षा प्रदान करने का कार्य करता हैं।
  • इग्नू भारतीय जिलों में शिक्षा की आवश्यकताओ को देखते हुए खुले विश्वविद्यालयों के निर्माण के लिए उचित सीमाएं तय करता हैं।

इंदिरा गाँधी राष्टीय मुक्त विश्वविद्यालय (IGNOU) की विशेषता

  • इग्नू का निर्माण क्षेत्रीय स्तर पर ना करके राष्ट्रीय स्तर पर किया गया हैं।
  • इग्नू दुरस्थ शिक्षा के निर्माण में अपनी अहम भूमिका निभाता हैं।
  • यह परीक्षाए, पाठ्यक्रम, शिक्षण सहायक सामग्री आदि का निर्माण करता हैं।
  • उत्तीण अभ्यर्थियों को प्रमाण-पत्र प्रदान करने का कार्य करता है।
  • यह अपने पाठ्यक्रम के अनुसार पुस्तकों का भी निर्माण का कार्य करता हैं।

इग्नू एक प्रकार की शैक्षिक संस्था हैं। जो ऐसे लोगों को शिक्षित करती हैं जो किसी वजह से पढ़ाई से विमुख हो चुके हों। उनके लिए यह अवसर उपलब्ध करवाती हैं जिससे उन लोगों को अपनी पढ़ाई शुरू करने के अवसर प्राप्त हो सकें और वह समाज के साथ समायोजन करने एवं समाज के कार्यों में सहयोग प्रदान कर सकें।

निष्कर्ष

इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय की स्थापना भारत के लिए एक ऐतिहासिक दिन था। इसके इसका लक्ष्य भारत के ऐसे तपके को शिक्षित करना था जो पढ़ाई से अभी तक वंचित है या वह जो चाहकर भी अपनी परिस्थितियों को देखते हुए पढ़ाई चाह कर भी नही कर सकें। इग्नू की स्थापना करना गौरवपूर्ण और लाभकारी सिद्ध हुआ हैं। आपने आज इग्नू, (IGNOU in hindi) इसके उद्देश्य, इसके कार्यो को विस्तृत रूप से जाना। इस पोस्ट के माध्यम से आपके ज्ञान में वृद्धि हुई हों तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें। ताकि वह भी ज्ञानार्जन कर सकें। अपने बहुमूल्य सुझाव के लिए नीचें दिए गए संदेश बॉक्स से हमकों संदेश भेजें।

संबंधित लेख – को-करीकुलर एक्टिविटीज

Previous articleबी.एड (B.Ed)करने के फायदे,योग्यता, फीस,विषय,सब्जेक्ट लिस्ट,एवं बी.एड के बाद क्या करें
Next articleउत्तर आधुनिकतावाद (Uttar adhuniktavad) क्या हैं?
नमस्कार दोस्तों मेरा नाम पंकज पालीवाल है, और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ. मैंने एम.ए. राजनीति विज्ञान से किया हुआ है, एवं साथ मे बी.एड. भी किया है. अर्थात मुझे S.St. (Social Studies) से जुड़े तथ्यों का काफी ज्ञान है, और इस ज्ञान को पोस्ट के माध्य्म से आप लोगों के साथ साझा करना मुझे बहुत पसंद है. अगर आप S.St. से जुड़े प्रकरणों में रूचि रखते हैं, तो हमसे जुड़ने के लिए आप हमें सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here