बी.एड (B.Ed)करने के फायदे,योग्यता, फीस,विषय,सब्जेक्ट लिस्ट,एवं बी.एड के बाद क्या करें

बी.एड एक व्यावसायिक दृष्टि एवं समाज के उत्थान के नजरिये को देखते हुए बी.एड (B.Ed.) करने के फायदे काफी हैं।आज कल सभी छात्र अपने भविष्य को लेकर चिंतित रहते हैं। वह यह सोचते हैं कि उन्हें भविष्य में क्या करना चाहिए क्या नहीं? जिन छात्रों को शिक्षण कार्य में रुचि होती हैं एवं जिन्हें शिक्षण करना पसंद होता हैं वह बी.एड का मार्ग चुनते हैं। दोस्तों बी.एड का मार्ग चुनने से पहले सभी छात्रों में बी.एड से संबंधित सूचनाये पाने के लिए जिज्ञासा उत्पन्न होती हैं। दोस्तों आज हम B.Ed से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण बातों में चर्चा कारिंगे।

बी.एड कोर्स व्यावसायिक शिक्षा के अंतर्गत आता हैं और इसे व्यावसायिक शिक्षा में इसीलिए रखा गया हैं क्योंकि इसे करके छात्र जीविकोपार्जन करने योग्य बन पाते हैं और यही कारण सबसे अच्छा हैं अगर आप बी.एड करने की सोच रहे हैं। आपको बी.एड करने के दौरान बहुत से अनुभव प्राप्त होते हैं आपको शिक्षण के लिए शिक्षण संस्थानों में भी भेजा जाता हैं जिस कारण आपके व्यक्तित्व में भी निखार आता हैं।

विषय सूची

  • बी.एड करने के फायदे
  • बी.एड करने की योग्यता
  • बी.एड फीस
  • बी.एड में पढ़ाये जाने वाले विषय
  • बी.एड करने के बाद क्या करें?
B.Ed (Bachelor of Education) karne ke fayde

यह भी देखें – विभिन्न देशों के अनुसार बी.एड B.Ed की जानकारी (अंग्रेजी में)

बी एड (B.Ed) करने के फायदे

  • बी.एड करने के बाद हमें शिक्षक बनने की योग्यता मिल जाती हैं।
  • बी.एड करने के बाद आप प्राइवेट विद्यालयों में पढ़ा सकते हैं।
  • टी.ई.टी (TET) , सी.टी.ई.टी (CTET) एवं प्रवक्ता (LT) परीक्षाये निकालकर आप सरकारी शिक्षक बन सकते हैं।
  • देश को शिक्षित बनाने एवं उसके उत्थान में योगदान देने के लिए।
  • अच्छे व्यावसायिक स्थल को प्राप्त करने के लिए।

बी.एड B.Ed करने की योग्यता

बी.एड करने के लिए आपको बी.ए , बी.एस.सी , बी.कॉम किया होना चाहिए और साथ ही कम से कम 50% के साथ अगर आपके इन कक्षाओं में 50% नही आते हैं तो आपके एम.ए , एम.एस.सी. या एम.कॉम में 50% होने ही चाहिए। आप तभी बी.एड करने योग्य हो बन सकिंगे। इस कोर्स को करने के पश्चात आप SSC से जुड़ी विभिन्न परीक्षाओं में भी भाग ले सकते हैं।

बी.एड फीस

बी.एड कोर्स 3 प्रकार की संस्थाओं द्वारा करवाया जाता हैं – सरकारी , सहकारी , प्राइवेट। इन तीन संस्थाओं में बी.एड फीस अलग-अलग निर्धारित की गई हैं। अगर आपके इंट्रेंस एग्जाम में अच्छे नम्बर आते हैं तो आपको सरकारी विद्यालय में प्रवेश मिल सकता हैं। सरकारी विद्यालय में बी.एड फीस 6000 – 7000 हैं, वही यदि आपको सहकारी विद्यालय मिलता हैं तो वहाँ की बी.एड फीस 35000 हैं और यदि प्राइवेट विद्यालय में आप जाते हैं तो वहाँ 48000 से 75000 प्रति वर्ष बी.एड फीस निर्धारित हैं।

बी.एड में पढ़ाये जाने वाले विषय

बी.एड के द्विवर्षीय पाठ्यक्रम के आधार पर इन विषयों का चयन किया गया हैं-

  • शिक्षा का दर्शन और समाजशास्त्रबाल्यवस्था और विकास
  • अधिगमकर्ता का मनोविज्ञान
  • सिद्धान्त और शिक्षण विधियां
  • शेक्षिक प्रौद्योगिकी और आई.सी.टी
  • स्कूल संगठन और प्रबंधन
  • लैंगिकता और समाज
  • पर्यावरण
  • स्कूली पाठ्यक्रम
  • समकालीन समाज में शिक्षा
  • आकलन और अधिगम

बी.एड करने हेतु 5 प्रमुख विद्यालय जो इस प्रकार हैं –

1) कस्तूरी राम कॉलेज (दिल्ली)

2) लेडी श्री राम कॉलेज (दिल्ली)

3) गुरु गोविन्द सिंह इंद्रप्रस्थ विद्यालय (दिल्ली)

4) दिल्ली विद्यालय (DU)

5) दून इंस्टिट्यूट ऑफ़ एजुकेशन (देहरादून)

बी.एड करने के बाद क्या करें?

बी.एड करने के बाद आपको शिक्षक बनने के लिए टी.ई.टी (TET), सी.टी.ई. टी (C.TET) में से कोई भी पास करना जरूरी है। आप तभी प्राइवेट या सरकारी विद्यालयों में पढ़ा सकते हैं। इसके लिए आपको चाहिए कि आप खुद Self-Study करें या फिर आप समय निकालकर कोचिंग (Coaching) भी कर सकते हैं। इन परीक्षाओं में आने वाले कुछ महत्वपूर्ण प्रकरण यह प्रश्न हर बार पूछे जाते हैं।

ये भी जाने- पियाजे का संज्ञानात्मक विकास कैसा हैं?

ये भी जाने- ब्लूम का वर्गीकरण किस आधार पर हैं?

दोस्तों, आज हमने बी.एड (B.Ed) करने के फायदे, बी.एड करने की योग्यता, बी.एड फीस, बी.एड में पढ़ाये जाने वाले विषय, बी.एड करने के बाद क्या करें के विषय में जाना। अगर यह पोस्ट आपको अच्छी और ज्ञानवर्धक लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें। ताकि वह भी बी.एड के संबंध में जानकारी प्राप्त कर सकें। अपने सुझाव देने के लिए हमें नीचे दिए गए संदेश बॉक्स से संदेश भेजें।

Bsc कोर्स क्या हैं ? सम्पूर्ण जानकारी

BA कोर्स क्या हैं?

MA कोर्स क्या हैं?

Previous articleसमुदायवाद क्या हैं?
Next articleइंदिरा गाँधी राष्टीय मुक्त विश्वविद्यालय – IGNOU in Hindi
नमस्कार दोस्तों मेरा नाम पंकज पालीवाल है, और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ. मैंने एम.ए. राजनीति विज्ञान से किया हुआ है, एवं साथ मे बी.एड. भी किया है. अर्थात मुझे S.St. (Social Studies) से जुड़े तथ्यों का काफी ज्ञान है, और इस ज्ञान को पोस्ट के माध्य्म से आप लोगों के साथ साझा करना मुझे बहुत पसंद है. अगर आप S.St. से जुड़े प्रकरणों में रूचि रखते हैं, तो हमसे जुड़ने के लिए आप हमें सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते हैं।

18 COMMENTS

  1. Bahut Accha laga sir yaha ye sab jankari padhne ke Baad Accha laga hain main ab tak uljha huaa tha ke kaise kare kya kare kya kya karna hoga but ab badiya sha sujhav mil gaya hain so thank you so much sir ji 🙏🙏🙏🇮🇳

  2. Sir jinke graguation main number kam hote hai wo bed pg base per ker toh lete but aage tet qualify karne ke baad koi dikkat toh nahi hoti or kya weh ctet ke liye eligble hai

    • नहीं पूजा ऐसा करने पर आपको आगे चलकर कोई समस्या उत्पन्न नहीं होगी। आप बेफिक्र रहें।

  3. Sir mujhe b.ed m.history or hindi lecture lena h mdm bol rhi h ki geography le lo achha rhega but mujhe pta nhi h ki unhone kya bola samjh nhi aaya ki 1st – 2nd grade k exam k bare m ki hm en subject k hisab s de payenge

    • Mitali पहली बात बी.एड में 4 सेमेस्टर होते हैं जिसमे 3 मे सभी छात्रों के सामान विषय होते हैं चाहे वह किसी भी वर्ग मे रूचि लेता हो. 3 सेमेस्टर मे आपको sst और हिंदी मिलेगी और इन्ही दो सब्जेक्ट्स से आपकी teaching trainingहोगी। अगर आप BA कर रहें हैं तो अपने subject combination का ध्यान अवश्य दें। अधिक जानकारी हेतु सोशल मिडिया में संपर्क करें।

    • Roy बी.एड के 3 सेमेस्टर मे सभी के common subjects रहिंगे। 1 सेमेस्टर में आपको 2 subjects का चयन करना होगा। जिसमें आप S.st और Hindi या S.St और english ले सकते हैं।

    • kumkun ऐसे में आपको Science और Math लेनी होगी और इसी के आधार पर आपकी प्रैक्टिस टीचिंग होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here