व्यवहार क्या हैं? – What is Behaviour in Hindi

व्यवहार Behaviour एक ऐसी प्रतिक्रिया जो किसी वस्तु या व्यक्ति की क्रिया की प्रतिक्रिया के रूप में होता हैं। सामान्य शब्दों में कहें तो दूसरे की क्रिया के जवाब में शारीरिक या मौखिक प्रक्रिया करना ही व्यवहार हैं। व्यवहार एक ऐसा भाव या क्रिया हैं जिससे किसी व्यक्ति की Personality का निर्माण होता हैं।

व्यवहार सदैव परिवर्तनशील होता हैं और यह किसी वस्तु या व्यक्ति के व्यवहार या क्रिया से प्रभावित भी हो सकता हैं। इस कारण या इसकी सहायता से किसी दूसरे व्यक्ति के विचारों को प्रभावित भी किया जा सकता है।

behaviour kya hai hindi

इसी के कारण व्यक्ति अन्य लोगों से अधिक समय तक संबंध स्थापित कर सकता हैं, क्योंकि यह दूसरे के विचारों को परिवर्तित करने का भी कार्य करते हैं। तो दोस्तों चलिए आज बहुत ही आसान भाषा और विस्तृत रूप से समझने का कार्य करते हैं कि व्यवहार क्या हैं? What is Behaviour in Hindi

व्यवहार क्या हैं? – What is Behaviour in Hindi

व्यवहार व्यक्ति की वह क्रिया या प्रतिक्रिया से जिससे उस व्यक्ति की पहचान होती हैं। व्यवहार किसी व्यक्ति की दूसरे व्यक्ति के साथ संबंध को बनाने या उसे स्थापित करने का कार्य करते हैं। यह किसी व्यक्ति के स्वभाव को बनाने का भी कार्य करता हैं।

व्यवहार को दो रूपों में प्रभावित होता हैं –

1. आंतरिक कारक (Internal Factor) – आंतरिक कारक से आशय उसकी मानसिक स्थिति या विचारों पर निर्भर करता हैं। अर्थात व्यक्ति अतिरिक रूप से कैसे महसूस कर रहा हैं इस बात पर व्यक्ति का व्यवहार निर्भर करता हैं। जैसे यदि किसी व्यक्ति को उसके किसी शारीरिक भाग में दर्द हो रही होती हैं या उसे किसी बात का दुख या तनाव होता हैं। तो वह व्यक्ति सामान्यतः दूसरे व्यक्ति से अच्छे से बात नहीं करता और बात – बात पर गुस्सा करने लगता हैं।

यह कारण बहुत से व्यक्तियों में देखा जाता हैं सामान्यतः कहें तो व्यक्ति के व्यवहार पर सबसे अधिक प्रभाव आंतरिक कारक द्वारा ही पड़ता हैं। जो व्यक्ति आंतरिक रूप से स्वस्थ होता हैं वह सामान्यतः दुसरो से अच्छा व्यवहार करता हैं।

2. बाहरी कारक (External Factor) – बाहरी कारणों में व्यक्ति के आस-पास का माहौल आता हैं जो किसी न किसी रूप में व्यक्ति के व्यवहार को नियंत्रित करने का कार्य करता हैं। जैसे- रोड ट्रैफिक में व्यक्ति का स्वभाव या व्यवहार चिड़चिड़ा हो जाता हैं और वह गुस्सा करने लगता हैं। इसी तरह दूषित वातावरण या बाहरी शोर भी व्यक्ति के व्यवहार में परिवर्तन लाने का कार्य करता है।

इसी के साथ अगर कोई व्यक्ति बचपन से हीन भावना या निर्धनता, अशिक्षा आदि के प्रभाव में होता हैं तो उसके व्यवहार में काफी परिवर्तन देखने को मिलता हैं। यहाँ तक कि किसी मोहल्ले, शहर या देश के व्यवहार का प्रभाव भी व्यक्ति के प्रभाव को नियंत्रित करने और बनाने का कार्य करता हैं।

व्यवहार को प्रभावित करने वाले कारक – Factors Influencing Behaviour

व्यक्ति के प्रभाव को प्रभावित करने वाले वह कारण निम्न माध्यमों से हो सकते हैं –

1. सुख (Happiness) – जब व्यक्ति किसी बात से खुस होता हैं तो अक्सर उसका व्यवहार शांत और हसी मजाक वाला रहता हैं। ऐसे में वह अक्सर दुसरो से प्रेम पूर्वक व्यवहार करता है।

2. दुख (Sadness) – यदि कोई व्यक्ति किसी बात से परेशान होता हैं तक अक्सर उसका व्यवहार दुसरो के प्रति कठोर हो सकता हैं। जिस कारण वह अन्य व्यक्ति से ठीक ठंग से बात नहीं करता और हर बात का उल्टा जवाब देता हैं।

3. तनाव (Depression) – तनाव अक्सर व्यक्ति के व्यवहार को पूर्ण रूप से परिवर्तन करने का कार्य करता हैं। तनाव से ग्रस्त व्यक्ति अक्सर शांत रहने लगता हैं और दूसरों से कम बातें करने लगता है। तनाव में अक्सर व्यक्ति का स्वभाव या व्यवहार अधिक सोचने वाला बन जाता हैं।

4. गुस्सा (Anger) – गुस्सा एक ऐसा स्वभाव या भाव हैं जो व्यक्ति के व्यवहार को कुछ समय के लिए बिल्कुल बदल देता हैं। गुस्से से व्यक्ति किसी से भी अच्छे से व्यवहार (Behaviour) नहीं करता। अक्सर ऐसे व्यक्तियों के व्यवहार से बचने के लिए लोग उससे दूर रहने लगते हैं।

5. प्यार (Love) – प्यार में पड़ा व्यक्ति अक्सर दूसरों से प्रेम-पूर्वक बातें करता हैं। प्यार में पड़ा व्यक्ति अक्सर दूसरों के विचारों को ध्यान से सुनता हैं जिससे अन्य लोग उससे आकर्षित होने लगते हैं और उसका व्यवहार बिल्कुल बदल जाता हैं।

संक्षेप में – Conclusion

व्यवहार किसी व्यक्ति की वह प्रतिक्रिया होती हैं जो दूसरे व्यक्ति की क्रिया के अनुरूप होती हैं। व्यवहार परिवर्तनशील होता है अर्थात व्यवहार में अपनी नीतियों और रुचि के अनुसार बदला जा सकता हैं। यह किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व के निर्माण में भी अपनी अहम भूमिका निभाती हैं।

व्यवहार को कुछ समय के लिए या लंबे समय के लिए अपने उद्देश्यों के अनुसार बदला जा सकता हैं। तो दोस्तों आज आपने हमारी इस पोस्ट के माध्यम से जाना कि व्यवहार क्या हैं? (What is Behaviour in Hindi) हम आशा करते हैं कि आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो। इस पोस्ट से संबंधित यदि कोई प्रश्न हो तो आप कमेंट बॉक्स का उपयोग कर सकते हैं।

Previous articleअधिगम को प्रभावित करने वाले कारक
Next articleमनोरंजक मल्टीप्लेयर लूडो खेलने के लिए अपने दोस्तों को जोड़ें। अभी खेलना शुरू करें
Pankaj Paliwal
नमस्कार दोस्तों मेरा नाम पंकज पालीवाल है, और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ. मैंने एम.ए. राजनीति विज्ञान से किया हुआ है, एवं साथ मे बी.एड. भी किया है. अर्थात मुझे S.St. (Social Studies) से जुड़े तथ्यों का काफी ज्ञान है, और इस ज्ञान को पोस्ट के माध्य्म से आप लोगों के साथ साझा करना मुझे बहुत पसंद है. अगर आप S.St. से जुड़े प्रकरणों में रूचि रखते हैं, तो हमसे जुड़ने के लिए आप हमें सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here